Becoming a member
Download Membership form
Currently open membership : Yearly and Lifetime
Become a partner organisation
Download Registration Form
Submission of Partnership Form to associate
Job Opportunities
Download application form
All District in District Manager, Block Co-ordinator
हम सभी को न सिर्फ पेड़ों की रक्षा करनी चाहिए बल्कि वृक्षारोपण कार्यक्रमों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेना चाहिए। इस दिशा में एक काम जो हम सब आसानी से कर सकते हैं वो है अपने जन्मदिन या किसी स्पेशल दिन पर कम से कम एक पेड़ लगाना चाहिए और उसकी हमेशा देखभाल करते रहना चाहिए। क्योंकि
"पेड़ है तो ज़िन्दगी है"।

प्रकृति ने हमें जीवन निर्वाह करने के लिए अनेक सुंदर उपहार दिये गये हैं उनमें से पेड़ हमारे लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण उपहार हैं। हमारे स्वास्थ्य एवं समृद्धि का पेडों से बहुत गहरा सम्बन्ध है। पेड़ प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष दोनों तरह से हमारे लिए अत्यंत उपयोगी हैं।

इसलिए हम सभी को न सिर्फ पेड़ों की रक्षा करनी चाहिए बल्कि वृक्षारोपण कार्यक्रमों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेना चाहिए। इस दिशा में एक काम जो हम सब आसानी से कर सकते हैं वो है अपने जन्मदिन या किसी स्पेशल दिन पर कम से कम एक पेड़ लगाना चाहिए और उसकी हमेशा देखभाल करते रहना चाहिए। क्योंकि "पेड़ है तो ज़िन्दगी है"।

ऑक्सीजन का स्रोत हैं पेड़
धरती पर जीवन के लिए अत्यंत जरूरी तत्वों में से जल और ऑक्सीजन प्रमुख हैं और हम ये जानते हैं धरती पर ऑक्सीजन के मुख्य स्रोत पेड़ ही हैं। वैसे तो सभी वृक्ष दिन के समय ऑक्सीजन छोड़ते हैं। जो जीवन के लिए अत्यंत आवश्यक है परंतु पीपल का वृक्ष सबसे ज्यादा ऑक्सीजन प्रदान करने वाला वृक्ष है।

पर्यावरण को करते हैं शुद्ध
हमारे वायुमण्डल में उद्योग तथा मानवीय कचरे आदि के कारण अनेक जहरीली गैस तथा रसायन मिल जाते हैं इन जहरीली गैस तथा रसायनों को वायुमण्डल से साफ करने में पेड़ पौधे प्रमुख भूमिका निभाते हैं। CO2 का उपयोग करके ऑक्सीजन के रूप में शुद्ध हवा वातावरण में उत्सर्जित करते हैं।

स्वास्थ्य की करते हैं रक्षा
अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाने में पेड़ो द्वारा हमें एक मजबूत कवच प्रदान किया जाता है। जिससे त्वचा कैंसर (skin cancer) तथा अन्य बीमारियों से सुरक्षा मिलती है। पेड़ों के द्वारा प्रदत्त शुद्ध हवा से रोगी व्यक्ति के स्वास्थ्य में शीघ्र ही सुधार होता है। कई अंतर्राष्ट्रीय शोध भी यह बताते हैं कि हरे भरे वातावरण के रहने से डिप्रेशन (Depression), तनाव (Stress), अनिद्रा (insomnia) जैसी मानसिक समस्याओँ (Mental problems) में शीघ्र सुधार होता है।

आयुर्वेद के आधार स्तम्भ हैं पेड़ पौधे
आयुर्वेद भारतीय सभ्यता की सदियों पुरानी परम्परा है और जड़ी बूटियां तथा पेड़ पौधे आयुर्वेद चिकित्सा के आधार स्तम्भ हैं। आयुर्वेद की सभी दवाओं में जड़ी बूटियों (Herbs) की प्रधानता रहती है। आँवला(Gooseberry), हरड़(Harad), बहेड़ा(Bahera, Beleric),ऐलोवेरा(Aloevera), अर्जुन(Arjuna), अशोक(Saracaasoca), नीम(Neem), जामुन जैसी प्रसिद्ध औषधियां पेड़ पौधों से ही प्राप्त की जाती हैं।

जल का करते हैं संरक्षण
पेड़ अपनी छाया के द्वारा जमीन से जल वाष्पीकरण कम करने में मुख्य भूमिका निभाते हैं। जिससे जल संरक्षण(Water conservation) होता है। और जल का शुद्धिकरण भी होता है। (Related: पानी की बर्बादी रोकने के 18 तरीके )

भोजन के हैं मुख्य स्रोत
पेड़ पौधों से हमे फल, सब्जियाँ, अन्न आदि मिलते हैं जो हमारे भोजन के प्रमुख अंग हैं। न सिर्फ मानव जाति बल्कि पशु पक्षी भी पेड़ पौधों से अपना भोजन प्राप्त करते हैं| यहाँ तक कि जो non-veg food के source भी indirectly इन्ही पेड़-पौधों पर dependent होते हैं।

अर्थव्यवस्था का साधन हैं पेड़
पेड़ अर्थव्यवस्था का प्रमुख साधन भी हैं पेड़ो पौधों से फल, सब्जी, अन्न, ईंधन, फर्नीचर, खेल के सामान, औषधि तथा अन्य तमाम चीजें मिलती हैं जिससे अर्थव्यवस्था को गति मिलती है, मानव जाति को रोजगार मिलता है। कागज, रबर तथा माचिस जैसे अनेक उद्योग पेड़ों पर ही आश्रित हैं।

प्रोपर्टी की बढ़ाते हैं कीमत
पेड़ पौधों से आच्छादित घर की कीमत बाजार मूल्य से 10-15% अधिक होती है तथा पेड़ पौधों से आच्छादित प्रोपर्टी की तरफ खरीददार जल्दी आकर्षित होते हैं।

मृदा अपरदन (मिट्टी के कटाव) को रोकते हैं पेड़
पेड़ पानी के संरक्षण (water conservation) में तो सहायक है ही साथ ही तेज तूफान एवं बाढ़ की स्थिति में मिट्टी के कटाव को रोकते हैं। जिससे मिट्टी के उपजाऊ तत्व बहने से बच जाते हैं साथ ही बाढ़ से बचाव होता है।

अच्छी बारिश के प्रमुख कारण है पेड़
जिस क्षेत्र में पेड़ पौधों की बहुतायत होती हैं वहां अच्छी बारिश होती है जिससे सूखे से बचाव होकर अर्थव्यवस्था को गति मिलती हैं। अच्छी फसल होती है। किसानों को उपज का ज्यादा मूल्य मिलता है। बाजार में पैसा ज्यादा आता है। अतः हमें हमेशा पेड़ काटने में शामिल होने के बजाय पुराने पेड़ों के संरक्षण तथा नये पेड़ लगाने में योगदान देना चाहिये।

BECOME A PARTNER

Join with Millennium Hands Foundation to help address sustainable development goals through our Initiative Programme

Learn more.

Connect with us